Great Sciencetist Nikola Tesla Biography fact Inventions.

दुनिया में रोशनी का आविष्कार किसने किया ? इस प्रश्न का उत्तर बोहोत लोग Thomas alva edison देंगे। पर सही तौर पे दुनिया में क्रांति लाई ओ तो Nikola Tesla के A.C current के आविष्कर ने।आज  हम घरो में कंपनियों में बड़ी बड़ी मशीनें चलने के लिए  जो करंट इस्तेमाल करते है ओ great Nikola Tesla के आविष्कार से ही बनाई गई।

अगर आज हमें दिये पर जिंदगी गुजरना पड़ा तो कितना अजीब लगेगा पर हम पहले ऐसे ही तो जीते थे। ना ही रोशनी ना इलेक्ट्रिसिटी और बाकी साधन जैसे मोबाइल तो कभी भी नही। रोशनी के लिए उस वक्त सुबह का ही इंतेजार करना पड़ता था।

एक दिन हमारे जीवन जीने का तरीका ही बदल दिया।जिसने पूरी दुनिया का चेहरा ही बदल दिया।उस महान साइंटिस्ट के बारे में बोहोत कम लोग जानते है।कई बार तो इनको अपने आविष्कारों को उनका नाम भी नहीं मिला। उनकी जिंदगी हमेशा एक सीक्रेट ही रही।इनके  जीवन के बारे में इतने पेचीदा सवाल है की शायद ही किसी और साइंटिस्ट के बारे में हो।

Nikola Tesla biography and Inventions

Tesla ko उनका कई बार तो एलियन भी कहा गया।की ओ किसी और दुनिया से आए है। क्योंकि कई बार उनके प्रयोग और साइंटिस्ट के समा के बाहर थे।                           Nikola Tesla  का जन्म स्मिलजन गाव में जो की क्रोएशिया में १८५६ में हुआ था।उनके पिता एक सर्बियन ऑर्थोडॉक्स  चर्च में पादरी थे।उनका नाम मुलितिन था। और माता का नाम दुका टेस्ला था। दूका टेस्ला भी एक पादरी की बेटी थी। टेस्ला की मा असाधारण थी,घर की किसी भी खराब समान से जुगाड करके ओ उसे उपोयोग करने के लायक बनाती थी। एक तरह से कहा जाए तो उनकी माता इनोवेटिव थी।

शायद टेस्ला को मा से ये गुण मिले थे,जो टेस्ला ने इतने सारे सफल प्रयोग किए।अपनी माता को देखकर ही उनको भी प्रेरणा मिली थी। टेस्ला बचपन से ही बोहोत प्रभावशाली रहे है,अपने  काम के कारण। स्कूल में तो ओ इंटीग्रल कलकुलास के सवाल ओ मन में ही हल करते थे।

कड़ी मेंहनत कर ओ 1873 में ग्रेजुएट हुए। टेस्ला के पिता टेस्ला को भी पादरी बनाना चाहते थे। Graduation के बाद टेस्ला जब गाव आए तो उनको कॉलरा हुआ।और  ओ बेड पर ही 8-9 महीने पड़े रहे। तब टेस्ला के पिता ने उनसे कहा कि जब तुम इस बीमारी से ठीक हो जाओगे तो मै तुम्हारा एडमिशन तुम्हारे मनपसंद इंजीनियरिंग कॉलेज में करा दूंगा।                                                          और टेस्ला इस बात से बोहोत ही जल्द अपनी बीमारी से ठीक हो गए।1875 में उन्होंने GRAZ नाम के ऑस्ट्रिया के कॉलेज में admission किया। पहले साल में टेस्ला ने जरूरत से जादा exams high grade के साथ पास किए।टेस्ला ने मायकल फराडे के electro magnetic induction के बारे में पढा और उसमें कुछ सुधार भी किए।

Nikola Tesla ने जब alternating current के बारे में अपने टीचर से बात की तो ओ टेस्ला पे हसने लगे।समय गुजर रहा था। 17 एप्रिल 1879 को उनके पिता की सटीक के कारण देहांत हो गया।                                    1882 में टेस्ला हंगरी के बुडापेस्ट शहर गए।और  वहां theodore puskas की Budapest के टेलीफोन ए्सचेंज में काम किया।टेलीफोन  एकसचेंज के आविष्कारक theodore puskas थे। उन्होंने तब टेलीफोन repeater ko  ठीक किया। ताकि ठीक से काम करे। उनके काम से थियोडोर puskas प्रभावित हुए।उस  वक्त puskas ने उनकी परीस में कॉन्टिनेंटल एडिसन नाम की कंपनी में नौकरी लगवाई।

इस  कंपनी में टेस्ला को पूरे शहर की लाइटिंग सिस्टम इंस्टाल करने का काम मिला।वह व भी उनसे लोग प्रभावित हो गए।कंपनी को पता चला कि टेस्ला को इंजीनियरिंग और फिजिक्स की अच्छी जानकारी है। इसलिए टेस्ला को इलेक्ट्रसिटी  पैदा करनेवाले डायनामोस के डिजाइन में सुधार करने को कहा गया। और टेस्ला ने कर के भी दिखाया।

Current War and Nikola Tesla inventions

थॉमसअल्वा एडीसन की कंपनी तब डायरेक्ट करंट मतलब D.C current इस्तेमाल करती थी। D.C current से एडीसन क्रांती लाना चाहते थे। एडिसन हमेशा D.C करंट के पक्ष में रहे। और टेस्ला हमेशा A.C करंट के पक्ष  में रहे। मतलब alternetive current के पक्ष में रहे।इस बात से आगे चलकर दोनों के बीच दोनों current war छिड़ गई। टेस्ला के जीवन के बारे में हम बात करे और current war के नाम से छिड़ी इस मतभेद के बारे में जिक्र ना केकतो  ये कहानी अधूरी होगी।

D.C current से कुछ समस्या थी। ये  NikolaTesla जानते थे।                                                             1) D.C current साधारण उपयोग के लिए ठीक था।जैसे  बल्ब जलाना पर D.C current से बकंपनी  के इस्तेमाल करने में बोहोत मंहगी और पर्याप्त नहीं थी।एडिसन और उनकी कंपनी D.C करंट से इस समस्या हल करना  चाहते थे।पर  कुछ प्रभावशाली कर नहीं पा रहे थे।

2)D.C current को कहा supply करना हैं वहां उस क्षेत्र के अंदर उसका पॉवर स्टेशन होना जरूरी था। लंबी दूरी तक D.C current  को पोहोचना असंआ नहीं था।दूरी के साथ उसका वोल्टेज कम जाता था।इसीलिए उसका 1 mile के अंदर पॉवर स्टेशन होना जरूरी था।

3)D.C current से अलग अलग उपकरण चलाना हो तो अलग अलग वोल्टेज वाली तार बिछाना पड़ता था।क्योंकि  अलग उपकरण के लिए अलग वोल्टेज की बिजली चाहिए थी।इसीलिए  अलग तार बिछाना जरुरी था। इसी वजह से यह बोहोत महंगी होती जाती थी।                  इस वजह से Nikola Tesla A.C current के पक्ष में रहे।और ओ A.C current पे काम करना चाहते थे। क्योंकी दूरी बढ़ने के बाद भी वोल्टेज पॉवर में कमी नहीं आती।और वायर से हाई वोल्टेज का करंट supply किया जा सकता था। और जैसे करंट की जरूरत हो उसको कम या बढ़ाया जा सकता था।मतलब हर बडी कंपनी और घर में लगने वाली बिजली same तार से provide किया जा सकता था। इस वजह से इसकी कीमत भी बोहोत कम हो जाती थी।                               टेस्ला अपने A.C current के मॉडल को एडिसन को दिखाना चाहते थे। Charles Batchelor एडिसन के एक मैनेजर थे।जो एडिसन के करीबी भी थे।दोस्त भी थे।और भरोसेमंद थे।चार्ल्स बैचलर टेस्ला को अच्छे से जानते थे।उन्होंने  टेस्ला के लिए एडिसन से सिफारिश पत्र भी लिखा था। उसमें लिखा था।

” दोस्त एडिसन इस दुनिया में मै दो महान लोगो             को जानता हूं। एक तो तुम हो और दूसरा ये जेंटलमैन

इस सिफारिश पे एडिसन की कंपनी ने टेस्ला को अमेरिका बुला लिया।उस  वक्त उनके पास बोहोत कम पैसे थे।         जब ओ अमेरिका गए एडिसन के साथ उनके D.C पॉवर supply और installation के लिए काम करते रहे।अब टेस्ला को काम मिला था।अब  उनको अपना alternative current का मॉडल एडिसन को दिखाना चाहते थे।

टेस्ला के इस मॉडल के बारे में एडिसन पहले से जानते थे। और एडिसन ने कहा कि यह करंट लोगो के लिए बहुत खतरनाक है। आगे चलकर दोनों में करंट वार छिड़ गई। ये वार मतभेद की थी।एडिसन  की उस बात से टेस्ला बोहोत मायूस हो गए।फिर  भी उन्होंने एडिसन के साथ कुछ दिन तक काम किया।                                              एकबार एडिसन के D.C मॉडल में कुछ खराबी अयी तो एडिसन ने कहा किको इसे ठीक करेगा उसे पचास हजार डॉलर देने की बात की थी।और  ये काम टेस्ला ने कर दिखाया।जब एडिसन के पास पचास हजार डॉलर के लिए गए,तो एडिसन ने कहा कि तुम्हे अमेरिका के लोगो का मजाक भी समझ में नहीं आता।

इस बात से टेस्ला बहुत नाराज हो गए।ओ सहन नहीं कर पाए।और  जनवरी 1885 में एडिसन की कंपनी को छोड़ दिया।और आगे बढ़ते रहे।

Nikola Tesla magical invenstion

यहां से टेस्ला ने अपने आविष्कार से सबको चौंका दिया।कंपनी  छोड़ने के बाद उन्होंने अपने सारे आविष्कार पेटेंट करा लिए।मार्च  1885 में कुछ इन्वेटर के साथ मिले और ‘The Tesla electric & manufacturing company‘ की  शुरुवात की।और  यहां भी उनको धोका मिला। उनके इनवेस्टर उनकी कंपनी से अलग हो गए और दूसरी कंपनी बना ली।

1856 में टेस्ला Alfred S. Brown जो western uniun के superintendent थे।न्यूयार्क अटॉर्नी चार्ल्स एफ.पेक से मिले।और इनके साथ मिलकर 1887 में टेस्ला ने इलेक्ट्रिक कंपनी बनाई।टेस्ला  ने बोहोत मेहनत की अपने आविष्कार के लिए 1887 में उन्होंने एक ऐसा इलेक्ट्रिक इंडक्शन मोटर बनाई जो A.C current से चलाई जा सकती थी।

1888 में जॉर्ज वेस्टिंगहाऊस जूनियर.को पता चला कि टेस्ला ने A.C induction motor बनाई है, तो ओ टेस्ला से मिले वह एक बड़े उद्योगपति थे।जॉर्ज  भी A C current  की कीमत को जानते थे।उन्होंने टेस्ला को 54500 डॉलर  की महीने की फीस दि एक साल के लिए। और उनके करंट के मॉडल के लिए 60,000 डॉलर भी दिए।एडिसन और टेस्ला के बीच मतभेद का युद्ध छिडा था।यह  टेस्ला के जीवन का महत्वपूर्ण भाग है।

अब  टेस्ला सीधे सीधे एडिसन के कॉम्पिटीटर थे। क्योंकी एडिसन D.C Current की मार्केटिंग कर रहे थे।एडिसन  सीधे सीधे ये नहीं कह सकते थे कि D.C system A.C system से अच्छा है।इसीलिए  उन्होंने उस सिस्टम को सार्वजनिक तौर पर खतरनाक बताया। इस कारण लोगो ने भी निकोला टेस्ला के सिस्टम पे सवाल खड़े किए।

शुरुवाती सिस्टम इंस्टॉलेशन के वक्त में शॉर्ट सर्किट के कारण भी लोगो में दर बैठ गया। फिर भी टेस्ला लगे रहे और अपने सिस्टम पर मेहनत करते रहे।                        A.C current D.C current से सस्ता था।तब  एडिसन कमर्शियल कमो में लगने में वाली बिजली को जड़ा पैसों में बेच रहे थे।घर  में लगने वाली बिजली कम दाम में बेच रहे थे। Vestinghouse की कंपनी सबको समान दरो पर बिजली बेच रही थी। 1890 में न्यूयॉर्क स्टेट ने एडिसन से पूछा कि जिन कैदियों के लिए मौत की सजा तय की है उनके लिए ये सजा देने का कोई तरीका बताए।तब एडिसन ने A.C current से कैदियों को झटके दिए। ताकि A.C सिस्टम की बदनामी हो।बदले  की आग में उठाए गए एडिसन के इस कदम से westinghouse की बदनामी हुईं।लोग  भी इस सिस्टम की आलोचना करने लगे।

Nikola Tesla coil

1890 में टेस्ला टेस्ला कोयल का इन्वेंशन किया। टेस्ला कोयल एक electric ressonanat transformer सर्किट है जिसका उपोयोग हाई होल्टेज, लो करंट , हाई फ्रीक्वेंसी alternating current  कि स्तिथि निर्माण करने के लिए किया जाता था। और आज भी Tesla coil का उपयोग किया जाता है।

टेस्ला की दूरदृष्टी ही कह सकते है।की  उन्होंने उस वक्त वायरलेस कम्युनिकेशन की बात की थी।दुनिया  के किसी भी कोने से दूसरे कोने तक बिना किसी वायर के बात बात कर सकते है।                                                           A.C current  को अच्छे से निर्माण  करने के लिए,steam power reciprocating generator develop किया।और 1893 में पेटेंट करा लिया। बचपन में टेस्ला ने अमेरिका के न्याग्रा फोल पे बिजली निर्माण करने का सपना देखा था।

अब ओ उसे पूरा करना चाहते थे। नियाग्रा  फॉल्स से 2 लाख 25 हजार फीट क्यूबिक पानी हर सेकंड में बहता था। जो इतनी पॉवर पैदा करता था कि 2लाख टन कोयला हर साल जलाने से मिलेगी। 1893 में नियाग्रा फॉल से इलेक्ट्रिक generate करने का काम westinghouse की कंपनी को मिला,टेस्ला की मदद से।

इस बड़ी उपलब्धि से एडििसन को और उनकी कंपनी का बोहोत नुकसान हुआ। और कंपनी ने भी A.C current का विरोध करने के कारण कंपनी के डायरेक्टर पद से भी हटा दिया।                                                               टेस्ला ने 1896 में नायग्रा फॉल पे एक बोहोत बड़ा generator इंस्टाल किया। और शुरुवात हुई इलेक्ट्रिकल युग की।इससे अमेरिका घर घर में बिजली पोहोचने लगी। इसी कारण से अमेरिका में औद्योगिक क्रांति की लहर आ गई।अब  बड़ी बड़ी मशीनें A.C current पे चलाई जा सकती थी।

Nikola Tesla Wireless current and commucation

टेस्ला ने कहा थी एक दिन अगर हम वायरलेस सिस्टम का पूरी तरह से विकास कर ले तो बिना वायर के हम दुनिया के किसी भी कोने में बात कर सकेंगे।साथ  बिना वायर के करंट भी supply किया जा सकत है। टेस्ला ने 1890 के wireless elecricity project पे काम की शुरुवात कि।उनको इस प्रोजेक्ट के लिए उनको 2लाख

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *